-->

भारतीय मंदिरों का लाइव दर्शन | एक नया तरीका | Live Darshan Indian Temples

YOUR DT SEVA
0

अगर आप भी भारत के प्रसिद्ध मंदिरों के दर्शन घर बैठे करना चाहते हैं तो इस पोस्ट में बताया गया है कैसे आप डिजिटल तरीके से Live Darshan Indian Temples अभी दर्शन करें क्योंकि बदलती दुनिया में मन्दिर भी अपने डिजिटल अवतार मे आ चुके हैं जिसके चलते भक्‍त घर बैठे ही शन्ति से पूजा पाठ आरती और ईश्‍वर का ध्‍यान कर सके इसलिए ही आज की यह पोस्‍ट मैं आपको Live Darshan Indian Temples के दर्शन करायेगी इसीलिए यह पोस्ट लिखी गयी है जिससे आप भारत के 10 प्रसिद्व मन्दिरों के लाइव दर्शन हर दिन करें क्‍योंकि देश के प्रसिद्व मन्दिरों में रोज जा पाना हर किसी के लिए सम्‍भव नहीं है तो चलिए भारत के इन प्रसिद्व मन्दिरों के दर्शन घर बैठे लाइव करें।

इस पोस्ट में आप जानेंगे जिस मंदिर के आप दर्शन करना चाहते हैं उस मंदिर का इतिहास और दर्शन करने का टाइम मंदिर की वेबसाइट और मंदिर के YOUTBUE CHANNEL का नाम
Live Darshan Indian Temples

    Siddhivinayak Temple | सिद्धिविनायक मन्दिर मुम्बई

    हमारे हिन्‍दू धर्म में ऐसी मान्‍यता है कि किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले भगवान गणेश का आशीर्वाद उनकी पूजा अर्चना ध्‍यान और वन्‍दना करने से मिलता है तो सबसे पहले हम भगवान गणेश के सिद्विविनायक मन्दिर के दर्शन कर लेते हैं लाइव दर्शन करने से पहले Siddhivinayak Temple के बारे में कुछ जरूरी जानकारी यह मन्दिर मुम्‍बई में स्थित है इस मन्दिर में गणेश जी की प्रतिमा की सूँड दाई तरफ मुडी हुई है जो सिद्घपीठ से जुडी होती है इसलिये इन्‍हें सिद्घिविनायक मंदिर कहते हैं यह मन्दिर तकरीबन 200 साल से ज्‍यादा पुराना है।

    Siddhivinayak Timing

    बुधवार से सोमवार तक Siddhivinayak Live लाइव दर्शन सुबह 5:30 से रात 9:50 तक
    मंगलवार को सुबह 3:15 से रात 11:30 तक लाईव दर्शन कर सकते हैं
    Siddhivinayak मन्दिर की Timing के बारे में अधिक जानकारी के लिए यहॉं क्लिक करें

    Siddhivinayak Temple Live Darshan

    Siddhivinayk Ganesh Youtube द्वारा लाइव दर्शन 

    siddhivinayk Ganesh Youtube द्वारा लाइव दर्शन

    Siddhivinayk Ganesh Website द्वारा लाइव दर्शन करने के लिए यहॉं क्लिक करें 

    Kashi Vishwanath - काशी विश्वनाथ मंदिर वाराणसी

    काशी विश्वनाथ यह मन्दिर वाराणसी में गंगा नदी के पश्चिमी तट पर स्थित कई हजार वर्ष पूर्व का है जो कि 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है यह मन्दिर कई बार टूटा और बना है सऩ 1780 में महारानी अहिल्‍या बाई होल्‍कर द्वारा निर्माण कराया गया है बाद में 1853 में महाराजा रणजीत सिंह द्वारा 1000 किलोग्राम शुद्व सोने से बनवाया गया वर्तमान में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 2021 में काशी विश्वनाथ कारीडोर का लोकार्पण कर 60 कि. ग्रा.भार के सोने से गर्भ गृह में पत्तर चढ़ाने का कार्य किया गया है. 

    Kashi Vishwanath Temple Timings

    काशी विश्‍वनाथ मन्दिर के लाइव दर्शन के लिए समय है Mangla Aarti 3:00 A.M. to 4:00 A.M Sugam Darshan 6:00 A.M. to 6:00 P.M तक हालाकि इस Time में समय-समय पर बदलाव होता रहता है मन्दिर में लाइव दर्शन के समय की पूरी जानकारी के लिए यहॉं क्लिक करें

    Kashi Vishwanath Live Darshan

    kashi vishwanath live darshan

    उपरोक्‍त लिंक से काशी विश्‍वनाथ मन्दिर के लाइव दर्शन नहीं कर पा रहे हों तो यहॉं क्लिक करें 

    Somnath Mandir - सोमनाथ मंदिर गुजरात

    सोमनाथ मन्दिर गुजरात राज्‍य के सौराष्‍ट्र जिले के वेरावल बन्‍दरगाह पर बना है यह मन्दिर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से पहला ज्योतिर्लिंग है ऋग्वेद के अनुसार इस मन्दिर पीछे एक पौराणिक कथा है कि चन्‍द्र का विवाह राजा दक्षप्रजापति की 27 कन्‍याओं से हुआ चन्‍द्रमा रोहिणी नामक एक ही  पत्‍नी से प्‍यार करते थे जिससे नाराज होकर राजा दक्ष ने चन्‍द्रमा को श्राप दे दिया की आज से तुम्‍हारा तेज कम होने लगेगा इससे परेशान होकर चन्‍द्र देव ने भगवान शिव की तपस्‍या यहीं की इससे प्रसन्‍न होकर शिव ने चन्‍द्रमा को वरदान दिया कि अमावस्या से पूर्णिमा तक चन्द्रमा का आकार बढेगा और दक्ष के श्राप से पूर्णिमा के पश्चात् अमावस्या तक चन्‍द्र का प्रकाश क्रमशः घटता है चन्‍द्रमा का एक नाम सोम भी है इसीलिए इस मन्दिर का नाम सोमनाथ पडा है यहां गोमती नदी है इसका जल सुबह सूर्य निकलने पर बढ जाता है और सूर्यास्‍त होने पर घट जाता है इस मन्दिर कि शिवलिंग में रेडियोधर्मी गुण है जो जमीन के ऊपर संतुलन बनाए रखने में मदद करता है। अरब यात्री अल बरूनी ने अपने यात्रा वृतान्त में इसका उल्लेख किया था जिससे प्रभावित होकर मुस्लिम शासकों ने  6 बार इस मन्दिर को तोडा 725 ईस्वी में अल जुनैद ने इस मन्दिर को तुड़वा दिया और खजाना लूट ले गया 815 ईस्वी में राजा नागभट्ट ने फिर से इस मन्दिर को बनवाया जिसे महमूद गजनबी ने सन 1024 मे तोड दिया और 18 करोड़ करोड का खजाना लूट ले गया इस मन्दिर की शिवलिंग को अपने साथ ले गया और अफगानिस्तान के शहर गजनी में एक मस्जिद के नीचे दबा दिया उल नासिर के मुताबिक 50 हजार श्रद्वालुओं को मार दिया गया और 20 हजार को बन्‍धक बनाया गया वर्तमान मन्दिर लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के द्वारा बनवाया गया है। 

    Somnath Mandir Darshan Time

    • दर्शन करने का समय सुबह 6:00 बजे से रात 10:00 बजे तक।
    • आरती करने का सयम सुबह 7:00 बजे, दोपहर 12:00 बजे, और शाम 7:00 बजे। 
    • लाइट एंड साउंड शो रात 8:00 बजे से रात 9:00 बजे तक। 
    • मानसून/वर्षा ऋतु को छोड़कर (इस समय सारणी में बदलाव भी हो सकता ) अधिक जानकारी के लिए मन्दिर की बेवसाईट पर क्लिक करें

    Somnath Temple Live Darshan

    somnath temple live darshan | india temple live

    उपरोक्‍त लिंक से सोमनाथ मन्दिर के लाइव दर्शन नहीं कर पा रहे हों तो यहॉं क्लिक करें 

    Vaishno Mata Ka Mandir - वैष्णो देवी मंदिर जम्मू कश्मीर

    माता वैष्णो देवी मंदिर, जम्‍मू राज्‍य के कटरा शहर से लगभग 14 किलोमीटर दूर जिला रियासी के त्रिकुट पहाडी पर 5200 फीट की ऊँचाई पर है यहॉं महाकाली, महालक्ष्मी और महासरस्वती पिंडी रूप मे त्रेता युग से विराजमान हैं। इन तीनों पिण्डियों के इस सम्मि‍लित रूप को वैष्णो देवी कहा जाता है यह मंदिर 108 शक्ति पीठ मे से एक है ऐसी मान्‍यता है कि भैंरोनाथ देवी की तपस्‍या में विघ्‍न डाल रहा था जिससे कुपित हो देवी ने भैंरोनाथ का वध करके सिर काट कर फेंका था जो 3 किलोमीटर दूर जा गिरा था वहीं भैरोनाथ का मन्दिर है। भैरों ने पश्‍चाताप किया जिससे देवी ने उसे क्षमा कर दिया, इसीलिए भैरव के दर्शन करने पड़ते है। मान्‍यता यह भी है कि भगवान विष्‍णु कल्कि अवतार में कलियुग के अंत में मॉं से मिलेंगे। पौराणिक कथाओं के अनुसार 700 वर्ष पहले श्रीधर भक्‍त को माता की यह गुफा मिली तब से यहॉं श्रद्वालु माता के दर्शन को जाने लगे। यह मन्दिर भारत के कई बडे शहरों से रेल, वायुयान और सडक मार्ग से जुडा है। ताकि भक्‍तो की यात्रा सुगम हो सके। 

    Vaishno Devi Darshan Timings

    • माता वैष्‍णो  देवी मन्दिर से लाइव दर्शन करने का समय है सुबह 5:00 बजे से दोपहर 12:00 बजे तक 
    • शाम 4:00 बजे से रात 9:00 बजे तक 
    • (इस समय सारणी में बदलाव भी हो सकता ) अधिक जानकारी के लिए मन्दिर की बेवसाईट पर जाएं

    Vaishno Devi Live darshan

    vaishno devi live darshan | india temple live
    Website द्वारा लाइव दर्शन के लिए यहॉं क्लिक करें

    Sai Baba Mandir - शिरडी साईं बाबा मंदिर महाराष्ट्र

    Shirdi In Maharastra महाराष्ट्र के अहमदनगर (Ahemadnagar) जिले के कोपरगॉंव तालुका में शिर्डी के साईं बाबा (shirdi sai baba) का मंदिर है, साईं बाबा को कबीर का अवतार माना जाता है, यहॉं सभी धर्म जाति के लोग आते है, साई ने समाज को दो अहम संदेश दिये सबका मालिक एक' श्रद्वा और सबूरी कहा जाता है कि जब साईं अपनी माँ के गर्भ में थे उसी समय उनके पिता के मन में ब्रह्म की खोज में अरण्यवास की अभिलाषा तीव्र हो गयी थी। वे अपना सब कुछ त्याग कर जंगल में निकल पड़े थे। उनके साथ उनकी पत्नी भी थी। मार्ग में ही उन्होंने बच्चे को जन्म दिया था और पति के आदेश के अनुसार उसे वृक्ष के नीचे छोड़ कर चली गयी थी। एक मुस्लिम फकीर उधर से निकले जो निःसंतान थे। उन्होंने ही उस बच्चे को अपना लिया और प्यार से 'बाबा' नाम रखकर उन्होंने उसका पालन-पोषण किया। इनके बारे में कई चमत्‍कारिक कथाऍं प्रसिद्व हैं।

     Shirdi Sai Baba Mandir Timing

    मन्दिर के कपाट खुलने का समय सुबह 4:45 से दोपहर 12:00 बजे तक 

    शाम 4:00 बजे से रात 10:00 बजे तक 
    The daily Worship Programme at Sai Temple At Shirdi अधिक जानकारी के लिए यहॉं क्लिक करें

    Youtube से लाइव दर्शन Shirdi Sai baba live Darshan

    shirdi sai baba live darshan

    Website द्वारा लाइव दर्शन Shirdi Sai Live Darshan

    Govind Dev Ji Mandir - गोविन्द देव जी मंदिर जयपुर

    जयपुर में बना भगवान कृष्ण का यह मन्दिर बिना शिखर का है, भगवान कृष्ण के प्रपौत्र वज्रनाभ भगवान श्री  कृष्ण के सटीक स्‍वरूप की मूर्ति बनवाना चाहते थे जो श्री  कृष्ण के बारे में अपनी दादी से पूछ रहे थे जो कृष्ण की पुत्र वधु थीं उन्‍होंने भगवान की छवि को तीन स्‍वरूपों में बताया पहला गोविन्‍द का मुख दूसरा वक्ष यानी छाती और तीसरा गोविंद जी के चरण यह तीनों मूर्ति  वज्रनाभ के द्वारा बनवायी गयी थीं और इन तीनों विग्रह को मथुरा में स्‍थापित किया गया परन्‍तु 1669 में औरंगजेब ने मथुरा के सभी मंदिरों को तोडने का आदेश दे दिया इससे कुछ पुजारी इन तीनों विग्रह को उठाकर जयपुर चले गये जिसको सवाई जय सिंह द्वितीय ने अपने परिवार के देवता के रूप में इन्‍हें यहॉं स्‍थापित किया और गोविन्‍द देव जी को जयपुर का शासक माना गया। 

    Govind Dev Ji Darshan Time

    दर्शन करने का समय है ग्रीष्‍मकाल में सुबह 4:30 से दोपहर 12:00 बजे तक और शाम 5:45 से रात 9:30 तक

    सर्दियों में समय सुबह 5:00 बजे से दोपहर 12:15 तक और शाम 5:00 बजे से रात 8:45 तक 

    अधिक जानकारी व झॉंकी का समय जानने के लिए यहॉं क्लिक करें

    Govind Dev Ji Live Darshan

    govind dev ji live darshan

    गोविन्‍द देवजी मन्दिर की बेवसाईट पर जाने के लिए यहॉं क्लिक करें। 

    Swarna Mandir | Amritsar Gurudwara - स्वर्ण मंदिर अमृतसर

    सिख धर्मावलंबियों का पावन व धार्मिक गुरूद्वारा जो कि स्‍वर्ण मन्दिर के नाम से जाना जाता है पंजाब राज्‍य के अमृतसर शहर में बना है जिसे सिखों के चौथै गुरू रामदास जी ने बनवाया कहा जाता है गुरू रामदास ने एक सरोवर का निर्माण कराया उस समय इस सरोवर में जो भी स्‍नान कर लेता था उसकी बीमारी दूर हो जाती थी इसलिए इस सरोवर का नाम अमृतसरोवर रखा बाद में अमृतसर शहर का नाम इसी के नाम से पडा यह गुरूद्वारा इसी सरोवर के बीचो बीच में बना है इस गुरूद्वारे के बाहरी हिस्‍से में 24 कैरेट सोने की 24 परते चढी हैं जिसमें लगभग 500 किलोग्राम सोना लगा है इस गुरूद्वारे के चार गेट है जो चारो दिशाओं से आने वाले सभी जातियों के समुदाय को खुले है इस गुरूद्वारे को कई बार नष्‍ट किया गया लेकिन भक्ति और आस्‍था ने इसे फिर से बना दिया हरिमन्दिर साहिब में दिन भर गुरूवाणी गूंजती रहती है golden temple kitchen यहॉं चौबीसो घंटे लंगर चलता रहता है इस गुरूद्वारे से कुछ ही दूरी पर जलियांवाला बाग है, जहां भारत के शहीदों की कुर्बानियों की निशानी है।

    Golden Temple Timing | Golden Temple Visiting Hours

    यह गुरूद्वारा 24 घंटे खुला है स्वर्ण मन्दिर के लाइव दर्शन का समय सुबह 2:00 बजे से रात 10:00 बजे तक है अधिक जानकारी लिए यहॉं क्लिक करें

    GOlden Temple Live

    golden temple live


    Website पर जाने के लिये यहॉं क्लिक करें

    Ujjain Mahakal Mandir | महाकाल मंदिर उज्जैन मध्य प्रदेश

    धार्मिक मान्‍यताओं के मुताबिक उज्‍जैन का महाकाल मन्दिर द्वापर युग में नन्‍द की आठ पीढी पीछे का है तथा कुछ पौरणिक कथाओं के अनुसार यह मन्दिर 800 से 1000 वर्ष पुराना है जिसे राजा विक्रमादित्‍य ने बनवाया था जबकि आज का जो महाकाल मंदिर है उसका निर्माण 150 वर्ष पूर्व राणोजी सिंधिया के मुनीम रामचंद्र बाबा शेण बी ने करवाया था. इस मंदिर के निर्माण में मंदिर से जुड़े प्राचीन अवशेषों का भी प्रयोग किया गया है.12 ज्योतिर्लिंगों में से सबसे खास महाकाल ही एकमात्र सर्वोत्तम शिवलिंग है। पृथ्वी पर महाकालेश्वर ही मान्य शिवलिंग है। काल के दो अर्थ होते हैं. एक समय और दूसरा मृत्यु। महाकाल को 'महाकाल' इसलिए कहा जाता. प्राचीन समय में यहीं से संपूर्ण विश्व का मानक समय निर्धारित होता था महाकालेश्वर मंदिर के शिखर के ठीक ऊपर से कर्क रेखा भी गुजरती है, इसलिए इसे पृथ्वी का नाभिस्थल भी माना जाता है। महाकालेश्वर परिसर में कई दर्शनीय मंदिर हैं। इनमें नागचंद्रेश्वर मंदिर वर्ष में एक बार नागपंचमी के दिन ही श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोला यहां प्रतिदिन अलसुबह भस्म आरती होती है। इस आरती की खासियत यह है कि इसमें ताजा मुर्दे की भस्म से भगवान महाकाल का श्रृंगार किया जाता है। यह मन्दिर भारत के मध्‍य प्रदेश के उज्‍जैन जिले में है।

    Mahakal Mandir Timing | Mahakaleshwar Mandir Timing

    महाकालेश्वर की आरती का समय 
    प्रात: 4 से 6 बजे तक भस्म आरती
    प्रात: 7.30 से 8.5 बजे तक नैवेद्य आरती
    साय॑ 5 बजे से जलाभिषेक बंद
    सायं 6.30 बजे से 7 बजे तक संध्या आरती
    रात्रि 10.30 बजे शयन आरती
    अधिक जानकारी के लिए मन्दिर बेवसाईट पर विजिट करें। 

    Mahakaleshwar Live | Mahakal Live Darshan Today

    mahakaleshwar live | mahakal live darshan today

    Official Website Click Here

    Dwarkadhish Mandir | द्वारकाधीश मंदिर गुजरात

    गुजरात राज्‍य में गोमती नदी के किनारे और अरब सागर के निकट ओखामंडल पर बसा हुआ द्वारिका जिला है, जो भगवान कृष्ण की कर्मभूमि है जगत मंदिर के नाम से प्रसिद्व भगवान कृष्ण को समर्पित यहीं द्वारकाधीश मन्दिर हैं। 72 स्‍तंभाें पर समर्थित पांच मंजिला इमारत का मुख्‍य मन्दिर जगत मन्दिर के रूप में जाना जाता है। पुरातात्विक व परंपरा की माने तो यह मन्दिर 200 ईसा पूर्व का है जो कृष्ण के आवासीय स्‍थान के ऊपर उनके पोते वज्रनाभ ने  बनवाया था। हिन्‍दू पुराणों के अनुसार कृष्ण ने मथुरा के अत्‍याचारी राजा कंस को मार डाला जिससे कंस का ससुर जरासंध कृष्ण से क्रोधित हो गया और उसने कई राजाओं से मिलकर मथुरा पर आक्रमण कर दिया कृष्ण उससे युद्व करने जब भी जाते वह भाग जाता था और फिर कुछ दिनों बाद युद्व को आ जाता था। इससे मथुरा को बहुत जन धन की हानि होने लगी इसलिए कृष्ण ने मथुरा वासियों को सुरक्षित स्‍थान द्वारिका ले जाकर बसा दिया और स्‍वंय भी वहीं रहने लगे कृष्ण के अन्‍त तक उनका एक मात्र पोता वज्रनाभ बचा था उन्‍होंने ही इस मन्दिर का निर्माण कराया था। बाकी मन्दिरों की तरह इस मन्दिर को भी मुस्लिम शासकों द्वारा नष्‍ट किया गया 1472 में महमूद बेगडा द्वारा इसे नष्‍ट कर दिया गया 15वीं 16वीं शताब्‍दी में व समय-समय पर पुर्ननिर्माण होता रहा है मौजूदा मंदिर 16वीं शताब्दी का है। पौराणिक कथा के अनुसार दुर्वासा ऋषि एक बार कृष्ण और रूक्मिणी से मिलने गए यह दोनो ऋषि को महल में ले जा रहे थे महल बडा था इसलिए चलते-चलते रूक्मिणी थक गयी और उन्‍होनें कृष्ण से पानी मॉंगा कृष्ण ने उस जगह पर एक छेद किया और गंगा नदी को उस स्‍थान पर ला दिया जिससे दुर्वासा ऋषि क्रोधित हो गये और उन्‍होंने रूक्‍मणी को श्राप दे दिया कि वह वहीं पर खडी रहें यहॉं जिस मन्दिर में रूक्‍मणी का मंदिर है माना जाता है कि वह वहीं पर खडी थीं किंवदंती के अनुसार मीराबाई इस मंदिर में देवता के साथ विलीन हो गयीं इस मंदिर का शिखर 78 मीटर (256 फीट) की ऊंचाई तक जाता है और उस पर सूर्य और चंद्रमा के प्रतीकों वाला एक बहुत बड़ा झंडा फहराया जाता है। ध्वज, आकार में त्रिकोणीय, 50 फीट (15 मीटर) लंबाई का है। इस झंडे को दिन में चार बार नए झंडे के साथ बदला जाता है

    Dwarkadhish Mandir Timing

    DARSHAN TIMINGS
    गुजरात के द्वारिकाधीश मन्दिर में दर्शन करने के लिए समय है सुबह 6:30 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक 
    and Evening 5.00 to 9.30
    opening time of dwarkadhish mandir अधिक जानकारी के लिए 
    Dwarkadhish Temple Official Website पर जायें 

    Dwarkadhish Temple Live Darshan

    Youtube द्वारा लाईव दर्शन 
    dwarkadhish temple live darshan

    Website द्वारा लाइव दर्शन के लिए यहॉं क्लिक करें 

    Ayodhya Ram Mandir - राम मंदिर अयोध्या

    अयोध्या राम मंदिर को कौन नही जनता यह मंदिर इतिहास का मोहताज नही है यह मंदिर खुद ही एक इतिहास है भगवान प्रभु श्री राम जिनका इतिहास ही अद्भुत और विलक्षण है जिनके के बारे में बच्चा-बच्चा जनता है जिनका नाम ही हर जुवान हो उन प्रभु के बारे में हम क्या बता सकते है बस यह मंदिर भारत देश के उत्तर प्रदेश राज्य में अयोध्या जिले में अभी नया ही बना है मंदिर पुराना है बस इसे 500 साल बाद मुक्त कर इस मंदिर को वर्ष 2024 में फिर से बनाया गया है और अब भक्त अपने प्रभु के दर्शन जाकर खुद कर सकते हैं।

    Ayodhya Ram Mandir Timing - राम मंदिर दर्शन का समय

    • राम मंदिर दर्शन टाइम सुबह 7:00 बजे से सुबह 11:30 तक 
    • दोपहर दो बजे से शाम 7:00 बजे तक 
    • आरती टाइम सुबह 06:30 बजे 
    • संध्या आरती शाम को 7:30 बजे
    राम मंदिर वेबसाइट https://srjbtkshetra.org/
    राम मंदिर YOTUBE CHANNEL
    राम मंदिर के अभी ऑनलाइन दर्शन उपलब्ध नही है दर्शन के लिए आप स्वयं अयोध्या जा सकते हैं जैसे ही ऑनलाइन दर्शन उपलब्ध होंगे इस वेबसाइट पर डायरेक्ट लिंक दे दिया जायेगा अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट पर समय समय पर विजिट करते रहें। 

    भारत के प्रसिद्व मन्दिरों के लाइव दर्शन की timing ऑफिसियल बेवसाईट व यूटूब चैनल 

    TEMPLATE NAME दर्शन टाइम Official Website Youtube Channel
    सिद्धिविनायक मुम्‍बई यहॉं क्लिक करें siddhivinayak.org @SiddhivinayakOnLine
    काशी विश्‍वनाथ वाराणसीTemple Timingsshrikashivishwanath.org@ShriKashiVishwanath
    सोमनाथ गुजरात Darshan Timingsomnath.org@SomnathTempleOfficialChannel
    वैष्णो देवी जम्‍मू कशमीरNot Availablemaavaishnodevi.org @MHONESHRADDHA
    साईं बाबा महाराष्ट्र   daily worshipsai.org.in@saisafar/streams
    गोविन्‍द देवजी जयपुरदर्शन समयgovinddevji.net@shrigovinddevji
    स्‍वर्ण मन्दिर अमृतसरDaily Routinesgpc.net@Darbarsahibamritsar
    महाकाल मन्दिर उज्‍जैनSCHEDULEshrimahakaleshwar.com@ShreeMahakaleshwarMandirUjjain
    द्वारिकाधीश सौराष्ट्रTime Tabledwarkadhish.org@shreedwarkadhishjagadmandi8285

    FAQ.

    Q : भारत के मन्‍दिरों के लाइव दर्शन कैसे करें ?
    Ans : भारत के प्रसिद्व मन्दिरों के लाइव दर्शन करने के लिए www.yourdtseva.com website पर विजिट करें भारत के 9 प्रसिद्व मन्दिरों के लाइव दर्शन रोज करें | India Temple Live पोस्‍ट देखें 
    Q : घर बैठे मोबाईल से मन्दिर दर्शन कैसे करें ?
    Ans : LIVE Darshan Indian Temples App Download करें
    Q : श्री सिद्धिविनायक के लाइव दर्शन कैसे करें ?
    Ans : दर्शन करने के लिए यहॉं क्लिक करें
    Q : महाकाल के दर्शन कैसे करे ऑनर्लाइन 2023 ?
    Ans : महाकालेश्‍वर के लाइव दर्शन करने के लिए यूटूब पर @ShreeMahakaleshwarMandirUjjain देखें 
    Q : लाइव मन्दिर दर्शन करने के लिए time क्‍या है ?
    Ans मन्दिरों के लाइव दर्शन करने का समय जानने के लिए नीचे दिये लिंक पर करें 
    Q : भारत प्रसिद्ध मंदिर का इतिहास क्या है ?
    Ans : इतिहास जानने के लिए यहॉं क्लिक करें 
    Q : भारत के मन्दिरों की Official Website व Youtube चैनल के नाम क्‍या है ?
    Ans अलग-अलग मन्दिरों के अलग-अलग वेवसाईट व यूटूब चैनल हैं कुछ मन्दिरों की वेवसाईट व यूटूब चैनल के नाम जानने के लिए आप नीचे दी हुई पोस्‍ट देखें 

    और अधिक जानकारी के लिए वीडियो देखें 

    निष्‍कर्ष

    मन्दिर हमारी आस्‍था व प्रचाीन सभ्‍यता का केन्‍द्र हैं मन्दिर वह जगह है जहॉं अपने अराध्‍य देव का चिन्‍तन मनन किया जाये और उनकी पूजा अर्चना की जाती है बदलते दौर में मन्दिरों में बैठ कर ज्‍यादा देर तक पूजा नहीं कर सकते जैसा कि बडे-बडे मन्दिरों उन्‍हीं दिव्‍य और भव्‍य मन्दिरों के Live Darshan Indian Temples के जरिए कर सकें इस बारे में आज की इस पोस्‍ट में जानकारी दी गयी थी। उम्‍मीद है आपने इन मन्दिरों के लाईव दर्शन कर लिए होगें यदि आपका किसी प्रकार का सवाल हो तो हमें कमेंन्‍ट करें और इस पोस्‍ट को शेयर अवश्‍य करें।

    इन्‍हें भी पढ़े:

    Tags

    Post a Comment

    0Comments

    Post a Comment (0)
    remove code in blogger.txt Displaying remove code in blogger.txt.